क्या करीना कपूर भोपाल से कांग्रेस के टिकट पर लड़ेंगी लोकसभा चुनाव? जानिये अभिनेत्री ने क्या दिया जवाब..

Kareena

 करीना कपूर (kareena kapoor) ने कहा, ‘मेरा फोकस बस फिल्में हैं. मेरे चुनाव लड़ने की खबरों में कोई सच्चाई नहीं है. मुझे किसी भी पार्टी ने चुनाव लड़ने के लिए अप्रोच नहीं किया है

मध्यप्रदेश के भोपाल (Bhopal) के कांग्रेस पार्षद योगेंद्र सिंह ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से मांग की है कि बॉलीबुड अभिनेत्री करीना कपूर (kareena kapoor) को कांग्रेस प्रत्याशी बनाया जाये. पार्षद की यह दलील है कि करीना कपूर खान (kareena kapoor Khan) को प्रत्याशी बनाने से भाजपा (BJP) के इस गढ़ में कांग्रेस जीत हासिल कर सकेगी.

इस संबंध में भोपाल नगर निगम के कांग्रेस पार्षद योगेंद्र सिंह ने राहुल गांधी को पत्र भी लिखा है. वह गुड्डू के नाम से मशहूर हैं और मध्य प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा के करीबी माने जाते हैं. चौहान ने अपने पत्र में लिखा है, ‘2019 के लोकसभा चुनाव हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है. भोपाल लोकसभा सीट पर कई वर्षों से लगातार भाजपा का कब्जा है. इसलिए इस सीट के लिए करीना कपूर उपयुक्त प्रत्याशी साबित होंगी.

उन्होंने आगे लिखा, ‘यदि करीना कपूर भोपाल लोकसभा सीट पर कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ेंगी तो निश्चित रूप से कांग्रेस 2019 के चुनाव में इस सीट से विजय हासिल करेगी.’ चौहान ने कहा, ‘मेरे अलावा कुछ और कांग्रेस पार्षद भी करीना को भोपाल सीट से उतारने के लिए जल्द आवाज उठाने वाले हैं.

‘ हालांकि करीना कपूर ने यह साफ कर दिया है कि उनका पूरा ध्यान फिल्मों पर है, राजनीति पर नहीं. करीना कपूर (kareena kapoor) ने कहा, ‘मेरा फोकस बस फिल्में हैं. मेरे चुनाव लड़ने की खबरों में कोई सच्चाई नहीं है. मुझे किसी भी पार्टी ने चुनाव लड़ने के लिए अप्रोच नहीं किया है.’ \

मालूम हो कि भोपाल लोकसभा सीट भाजपा का गढ़ बन गया है. पिछले 30 सालों से इस सीट पर भाजपा का कब्जा है. भाजपा ने यह सीट पहली बार वर्ष 1989 में जीती थी और तब से अब तक इस सीट पर वह आठ बार लगातार जीत दर्ज कर चुकी है. करीना भोपाल के नवाब के वंशज एवं भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मंसूर अली खान पटौदी की बहू हैं. करीना के पति बॉलीबुड एक्टर सैफ अली खान हैं.

1989 में इस सीट से हारने के बाद कांग्रेस ने करीना के ससुर मंसूर अली खान पटौदी को भी 1991 में भोपाल लोकसभा सीट से प्रत्याशी बनाया था, लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, क्रिकेटर कपिल देव के साथ-साथ अपनी पत्नी एवं बॉलीबुड अभिनेत्री शर्मिला टैगोर जैसी हस्तियों को अपने चुनाव प्रचार में उतारने के बाद भी वह भाजपा से इस सीट को छीनने में नाकामयाब रहे थे. तब उन्हें भाजपा के सुशीलचंद्र वर्मा ने एक लाख से अधिक मतों से हराया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *